गरबा में आने वालों पर गौमूत्र का छिड़काव

Published on: October 7, 2016
गांधीनगर : बजरंग दल के कार्यकर्ता अब गरबा में भाग लेने वाले गैर हिंदुओं पर गौमूत्र छिड़ककर उन्हें “पवित्र” करने का अभियान शुरू किया है। दरअसल, ये सारी कवायद गैर हिंदुओं को गरबा आयोजनों से दूर रखने की है। गांधीनगर के सेक्टर 11 के गरबा समारोह में बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने लोगों पर गौमूत्र छिड़कना शुरू किया, लेकिन लोगों की प्रतिक्रियाओं से लग रहा था कि उन्हें ये हरकत पसंद नहीं आ रही है।

bajrang-dal-activists-purify-non-hindus-at-garba-venues-in-gandhinagar-by-sprinkling-cow
Image: Navbharat Times

कपड़ों पर दाग पड़ने से रोकने के लिए गौमूत्र के साथ गंगाजल का मिश्रण किया गया था, लेकिन लोगों की नाराजगी छिपी नहीं रही। कुछ लोगों ने तो इसका विरोध नहीं किया लेकिन आईटी विशेषज्ञ देवदत्त सिंह रावल जैसे कई लोगों ने न केवल इसका विरोध किया बल्कि पुलिस भी बुला ली।

उनकी पत्नी जानकी बा बताती हैं- “बजरंग दल वालों ने हमें बाहर निकाल फेंकने की धमकी भी दी। हमारे पास पास था तो वे हमें रोकने वाले कौन होते हैं? कई लोग डर के मारे चुप रहे लेकिन मुझे किसी को साबित करने की ज़रूरत नहीं कि मैं हिंदू हूँ।”

उस समारोह में आमंत्रित सामाजिक न्याय मंत्री केशाजी चौहान का भी स्वागत बजरंद दल वालों ने गौमूत्र छिड़ककर ही किया। बजरंग दल की गांधीनगर इकाई के जिलाध्यक्ष अमित उपाध्याय का कहना है- हम तो चार साल से ये काम कर रहे हैं। लव-जिहाद रोकने के लिए ये तरीका हमने अपनाया है। पहले हम लोग तिलक लगाते थे लेकिन बाद में लगा कि गैर हिंदुओं को दूर रखने के लिए गौमूत्र ज्यादा कारगर है। उपाध्याय के साथ करीब 300 युवाओं की टीम है जो होली और नवरात्रि पर भी “संस्कृति रक्षा” का काम करती है।

अमित उपाध्याय कहते हैं- “हमें पुलिस की परमीशन की ज़रूरत नहीं है। हम अपने धर्म की सेवा कर रहे हैं। जो लोग गौमूत्र छिड़कवाने से इन्कार करेंगे, उन्हें हम बाहर निकाल देंगे।”

जबरन गौमूत्र छिड़कने के बारे में गांधीनगर के डीएसपी विजय पटेल का कहना है- “हमें ऐसी किसी घटना की जानकारी नहीं है। अगर कोई शिकायत हमें मिली तो हम उस पर जरूरी कार्रवाई करेंगे।”

थंगानट गरबा के आयोजक रोहित नायानी किसी विवाद में पड़ने से बचना चाहते हैं। वे कहते हैं, “बजरंग दल वाले पिछले तीन साल से यहाँ आ रहे हैं, लेकिन अब तक उनकी कोई शिकायत नहीं मिली है।”

गरबा में आने वाले सभी आगंतुकों पर गौमूत्र तो छिड़का जा रहा है लेकिन भाजपा से जुड़े अल्पसंख्यक नेताओं को इससे अलग रखा गया। सामाजिक न्याय मंत्री केशाजी चौहान और धर्मगुरु भैयूजी महाराज पर गौमूत्र डाला गया लेकिन उनके साथ आए भाजपा नेता और सूफी संत महबूब अली चिश्ती को बिना गौमूत्र छिड़के अंदर आने दिया गया। बजरंग दल वाले इसके लिए भीड़ का बहाना बनाते हैं।

Courtesy: Ahmedabad Mirror